माटी परियोजनाः दूसरे चरण के चयनित किसानों के साथ जिला कलक्टर का संवाद

बीकानेर

माटी परियोजनाः दूसरे चरण के चयनित किसानों के साथ जिला कलक्टर का संवाद

बीकानेर@दैनिक खबरां। माटी परियोजना के दूसरे चरण के तहत गाढ़वाला के चयनित पचास किसानों के साथ शुक्रवार को जिला कलक्टर भगवती प्रसाद कलाल ने संवाद किया। उन्होंने कहा कि खेती की लागत कम हो और उत्पादन बढ़े, इसके लिए छोटी-छोटी चीजों पर ध्यान देना जरूरी है। उन्होंने कहा कि किसान, परम्परागत खेती के साथ नई तकनीकें भी अपनाएं। उन्होंने पशुपालन और उद्यानिकी पर भी जोर दिया।

जिला कलक्टर ने बताया कि माटी परियोजना के पहले चरण में जिले के 457 गांवों में कृषक गोष्ठियां आयोजित की गई। इनमें लगभग 15 हजार किसानों से सीधा संवाद स्थापित हुआ।

दूसरे चरण में जिले के ग्रामीण क्षेत्र के पांचों विधानसभा क्षेत्रों के पांच-पांच गांवों का चयन किया गया है। इन गांवों केे पचास-पचास किसानों का व्यक्तिगत फॉर्म प्लान तैयार किया गया है। इन किसानों की खेती योग्य भूमि, संसाधन, फसल की स्थिति, आय की स्थिति की समीक्षा करते हुए इन्हें विभिन्न सावधानियों के साथ वैज्ञानिक तरीके से खेती करने का आह्वान किया गया है।

जिला कलक्टर ने कहा कि आज खेती को व्यवसाय के तौर पर लेने की जरूरत है। किसान सामूहिक रूप से कृषि करें, जिससे लागत कम हो। कृषि की तकनीकें अपनाते हुए कम से जैविक खेती को बढ़ावा देने का प्रयास हो।

उन्होंने कहा कि माटी परियोजना के माध्यम से कृषि और कृषक से जुड़े सभी विभागों का तकनीकी ज्ञान किसानों तक पहुंचाने के प्रयास किए जाएंगे। किसान इन्हें अपनाएं, जिससे उनको लाभ हो सकें।
संयुक्त निदेशक कृषि (विस्तार) डॉ. उदयभान ने कहा कि पच्चीस गांवों के चयनित 1 हजार 250 किसानों की खेती से जुड़ी प्रत्येक गतिविधि पर नजर रखी जाएगी तथा वरिष्ठ कृषि वैज्ञानिकों की देखरेख में आए परिणामों का अध्ययन भी किया जाएगा।

उपनिदेशक कृषि (विस्तार) कैलाश चौधरी ने बताया कि जिले अभियान की रूपरेखा के बारे में बताया। उन्होंने कहा कि अभियान में कृषि के अलावा पशुपालन विभाग, एसकेआरएयू एवं राजूवास तथा आईसीएआर के संस्थानों के विशेषज्ञों का सहयोग भी लिया जा रहा है।

इस दौरान राजूवास के प्रसार शिक्षा निदेशक प्रो. आरके धूडिया, एसकेआरएयू के डॉ. रणजीत सिंह, सहायक निदेशक कृषि डॉ. रामकिशोर मेहरा, नाबार्ड के सहायक महाप्रबंधक रमेश तांबिया, मरुधर ग्रामीण बैंक के प्रबंधक गौरव, माटी परियोजना प्रभारी सुभाष बिश्नोई, सीताराम, मालाराम जाट, सोमा विश्नोई, सोनम, गाढवाला के मोहन सहारण, खींयाराम सहारण और प्रगतिशील किसान मौजूद रहे। कार्यक्रम का संचालन कृषि अधिकारी मुकेश गहलोत ने किया।