राजकीय बालिका उच्च माध्यमिक विद्यालय जस्सूसर गेट के विधार्थियों को डेंगू मलेरिया बुखार के लक्षण, बचाव एवं सावधानियां रखने की जानकारी दी….

बीकानेर
  • बीकानेर,@दैनिक खबरां।राजकीय बालिका उच्च माध्यमिक विद्यालय जस्सूसर गेट के विधार्थियों को कला शिक्षक भूरमल सोनी ने डेंगू मलेरिया बुखार के लक्षण, बचाव एवं सावधानियां रखने की जानकारी दी ।
  • डेंगू मच्छर की पहचान, बनावट,काटने पर लक्षण- अचानक तेज सिरदर्द व बुखार ,बल्ड प्रेशर एवं प्लेटलेट्स का कम होना, मांस पेशियों में और जोड़ों में दर्द, जी मचलना, त्वचा में चकते, आंखों के पीछे दर्द, गंभीर मामलों में नाक, मुंह मसूड़ों में खून आना तथा उल्टियां होने के लक्षणों को बताया।साथ ही बचाव की बातें बताई। स्कूल में दो दिवसीय नेशनल एच्युमेन्ट सर्वे (एन ए एस) शिविर समापन के दौरान उपस्थित शिक्षकों को भी डेंगू बुखार की जानकारी दी । शिविर प्रभारी दिनेश कुमार व्यास, वार्ड पार्षद शिवशंकर बिस्सा ने बताया कि घर-घर डेंगू, मलेरिया, चिकनगुनिया बुखार फैल रहा है बच्चे बुखार की चपेट में अधिक आ रहे हैं अतः मच्छरों को घरों व आसपास पनपने न दे।

  • किसी भी प्रकार के बुखार आने पर तुरन्त डाक्टर से सलाह लें और खून की जांच करवाएं। शिविर संदर्भ निर्मला कंवर राठौड़,पहलवान महावीर कुमार सहदेव, मनोजकुमार व्यास एवं शिक्षक -शिक्षिकाऐं उपस्थित थीं।

  • मच्छरों के प्रजनन पर प्रभावी रोक लगाने के लिए लार्वा को समाप्त करने के लिए घरों में कूलर, गमले,टायर, आदि में पानी न रखें ताकि मच्छर पैदा न हो । गड्ढों में पानी इकट्ठा हो तो वहां बेकार आयल डाल दें जिससे लार्वा गतिविधियां संपादित नहीं कर सके ।पीने के पानी की कुंडियों में एक चम्मच मीठा तेल डाल दें ताकि लार्वा मर जाए। डेंगू बुखार के बढ़ते प्रकोप से बचाव के लिए घर घर मच्छरों की रोकथाम के साथ-साथ जन जागरण की आवश्यकता है।